श्यामा आन बसों वृन्दावन में

   Sep  09/12/2016

54 Words

श्यामा आन बसों वृन्दावन में, मेरी उम्र बीत गयी गोकुल में । श्यामा रस्ते में बाग बना जाना, फुल बीनुगी तेरी माला के लिए । तेरी बाट निहारूं कुंजन में, मेरी उम्र बीत गयी गोकुल में ॥ श्यामा रस्ते में कुआ खुदवा जाना, मैं तो नीर भरुंगी तेरे लिए । मैं तुझे नहालाउंगी मल मल के, मेरी उम्र बीत गयी गोकुल में ॥ श्यामा मुरली मधुर सुना जाना, मोहे आके दरश दिखा जाना । तेरी सूरत बसी है अंखियन में, मेरी उम्र बीत गयी गोकुल में ॥ श्यामा वृन्दावन में आ जाना, आकर के रास रचा जाना । सूनी गोकुल की गलियन में, मेरी उम्र बीत गयी गोकुल में ॥ श्यामा माखन चुराने आ जाना, आकर के दही बिखरा जाना । बस आप रहो मेरे मन में, मेरी उम्र बीत गयी गोकुल में ॥

Delete Parmanently

Are you sure you want to delete this ?

To Appreciate this post on Shri Darbar, log in or create an account.